शौक तो अपने भी निराले थे
हमने ही आस्तीन में साँप पाले थे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *