कदम तो यूँ ही लड़खड़ा गये वरना सम्भलना हम भी जानते थे
ठोकर भी लगी उस पत्थर से जिसे हम अपना खुदा मानते थे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *