*हैरान बैठा हूँ वक़्त का धागा ले कर..*
*रूह को रफू करूँ, कि अपने खवाब बुनूं…*

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *