जिन्दगी की दौड़ में, तजुर्बा कच्चा ही रह गया,

हम सीख न पाये फरेब और दिल बच्चा ही रह गया..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *