यूँ ही नहीं इतनी एहमियत है तुम्हारी,
तुम्हारे आने से जज्बातो को शब्दों में पिरोना सीखा है मैंने ,
कुछ इस कदर अब जीना सीखा है मैंने

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *