कारीगर हु साहब
शब्दों की मिट्टी से
महफ़िल सजता हूँ…..
किसी को बेकार
तो किसी को लाजवाब
नज़र आता हूँ …..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *