जीने की खवाहिश में हर रोज़ मरते है ,
वो आये न आये हम इंतज़ार करते है ,
झूठा ही सही मेरे यार का वादा ,
हम सच मान कर एतबार करते है

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *